Requiem or a dream?

Steven came to his room and threw away his bag pack in a dark corner of the room. He then crumbled into his bed and closed his eyes. Steven has not been able to sleep for a few days. He have had the periodic naps but not the fully contempt sleep. His eyes were weary … Continue reading Requiem or a dream?

Advertisements

माँ 

जब रूठ कर सिमट बैठ जाता हूँ कोने में  चुपके से अंधेरे में आकर मना लेती हो माँ ।। किसी की नज़र ना लग जाए तुम्हारे लख्त ए जिगर को रात की कालिख़ से काजल का टीका लगा देती हो माँ ।। तप जाए शरीर थोड़ा, कि मामूली सी मर्ज हो बैठे बैठे हीं रातें … Continue reading माँ 

कागज़ की कश्ती 

बहुत साल पहले इक नाव बनाई थी मैंने   घर के पिछवारे जो दरिया बन बह रहा था सावन उस दरिया में एक नाव बहाई थी मैंने आज खोल कर बैठा था किताब ज़िदगी की इक पन्ना फटा मिला बचपन का कुछ यादें कुछ एहसास छोटी छोटी आयतें खुशियों की माँ की लोरीयाँ कहानीयाँ बाबा … Continue reading कागज़ की कश्ती 

अभिलाषा

अकेलापन जब खाये जाता है भीड़ में तो वापस लौट जाने का जी करता है याद सफर की सताती है तो फिर से नदी बन जाने का जी करता है पर ज़मीन दिखने लगती है मुझे अस्तितव खो जाने का डर सताने लगता है किनारे पर न जाने कितने थपेड़े मारे उस अतीत के तट … Continue reading अभिलाषा

She

She was walking down the road lost in her thoughts. An eternal bliss dripped from her countenance. She was too happy to suppress the faint smile on her face. The streets were dark and deserted on the way to the station. She lived in a small village in the remote corner of the district. She … Continue reading She

Cheers!!!

Raise your crystals to this comic tragedy Pour yourself a drink or two Let’s drink today to the act you wrote Let’s make a toast to the ugly life Let’s make a toast for this wonderful fight Let’s make a toast for all the miseries The girl that ditched you and the broken heart The … Continue reading Cheers!!!